प्रत्येक सोमवार को प्रकाशित
 पत्र व्यवहार का पता

अभिव्यक्ति-तुक-कोश

१५. ९. २०१४

अंजुमन उपहार काव्य संगम गीत गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति
कुण्डलिया हाइकु अभिव्यक्ति हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर नवगीत की पाठशाला

दिवंगत पिता के लिये

     

(१)
सूरज के साथ-साथ
सन्ध्या के मंत्र डूब जाते थे,
घंटी बजती थी अनाथ आश्रम में
भूखे भटकते बच्चों के लौट आने की,
दूर-दूर तक फैले खेतों पर,
धुएँ में लिपटे गाँव पर,
वर्षा से भीगी कच्ची डगर पर,
जाने कैसा रहस्य भरा करुण अन्धकार फैल जाता था,
और ऐसे में आवाज़ आती थी पिता
तुम्हारे पुकारने की,
मेरा नाम उस अँधियारे में
बज उठता था, तुम्हारे स्वरों में।
मैं अब भी हूँ
अब भी है यह रोता हुआ अन्धकार चारों ओर
लेकिन कहाँ है तुम्हारी आवाज़
जो मेरा नाम भरकर
इसे अविकल स्वरों में बजा दे।

(२)
'धक्का देकर किसी को
आगे जाना पाप है'
अत: तुम भीड़ से अलग हो गए।

'महत्वाकांक्षा ही सब दुखों का मूल है'
इसलिए तुम जहाँ थे वहीं बैठ गए।
'संतोष परम धन है'
मानकर तुमने सब कुछ लुट जाने दिया।

पिता! इन मूल्यों ने तो तुम्हें
अनाथ, निराश्रित और विपन्न ही बनाया,
तुमसे नहीं, मुझसे कहती है,
मृत्यु के समय तुम्हारे
निस्तेज मुख पर पड़ती यह क्रूर दारूण छाया।

(३)
'सादगी से रहूँगा'
तुमने सोचा था
अत: हर उत्सव में तुम द्वार पर खड़े रहे।
'झूठ नहीं बोलूँगा'
तुमने व्रत लिया था
अत:हर गोष्ठी में तुम चित्र से जड़े रहे।

तुमने जितना ही अपने को अर्थ दिया
दूसरों ने उतना ही तुम्हें अर्थहीन समझा।
कैसी विडम्बना है कि
झूठ के इस मेले में
सच्चे थे तुम
अत:वैरागी से पड़े रहे।

(४)
तुम्हारी अन्तिम यात्रा में
वे नहीं आए
जो तुम्हारी सेवाओं की सीढ़ियाँ लगाकर
शहर की ऊँची इमारतों में बैठ गए थे,
जिन्होंने तुम्हारी सादगी के सिक्कों से
भरे बाजार भड़कीली दुकानें खोल रक्खी थीं
जो तुम्हारे सदाचार को
अपने फर्म का इश्तहार बनाकर
डुगडुगी के साथ शहर में बाँट रहे थे।

पिता! तुम्हारी अन्तिम यात्रा में वे नहीं आए
वे नहीं आए

- सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

इस सप्ताह
पितृपक्ष के अवसर पर पिता को
समर्पित रचनाएँ

गीतों में-

bullet

अनूप अशेष

bullet

अश्विनी कुमार विष्णु

bullet

ओमप्रकाश तिवारी

bullet

कल्पना रामानी

bullet

कुँअर बेचैन

bullet

कुमार रवीन्द्र

bullet

कृष्णनंदन मौर्य

bullet

जय चक्रवर्ती

bullet

ज़हीर कुरैशी

bullet

पंकज परिमल

bullet

पवन प्रताप सिंह 'पवन'

bullet

डॉ. प्रदीप शुक्ला

bullet

बृजेश नीरज

bullet

मधुकर अष्ठाना

bullet

माहेश्वर तिवारी

bullet

योगेन्द्र वर्मा व्योम

bullet

रविशंकर मिश्र रवि

bullet

रामशंकर वर्मा

bullet

रमेश तैलंग

bullet

विष्णु विराट

bullet

शशि पुरवार

bullet

शीलेन्द्र सिंह चौहान

bullet

सीमा अग्रवाल

bullet

त्रिलोक सिंह ठकुरेला

छंदमुक्त में-

bullet

अनिलकुमार मिश्र

bullet

अनिल जनविजय

bullet

आभा खरे

bullet

प्रज्ञा पांडे

bullet

प्रेम मोहन

bullet

भारतेन्दु मिश्र

bullet

मंजुल भटनागर

bullet

विजयशंकर चतुर्वेदी

bullet

विपुल शुक्ला

bullet

सरस दरबारी

bullet

सर्वेश्वर दयाल सक्सेना

bullet

सुशांत सुप्रिय

दोहों में-

bullet

ज्योतिर्मयी पंत

bullet

रामशिरोमणि पाठक

अंजुमन में-

bullet

ओमप्रकाश यती

bullet

गिरीश पंकज

bullet

राजकुमार महोबिया

bullet

सुरेन्द्रपाल वैद्य

bullet

सुवर्णा दीक्षित

क्षणिकाओं में-

bullet

डॉ हेमंत कुमार

bullet

राजशेखर व्यास

bullet

शशि पाधा

bullet

सुशीला शिवराण

हाइकु में-

bullet

उमेश मौर्य

bullet

मीनाक्षी धन्वंतरि

bullet

सरस्वती माथुर

अंजुमनउपहार काव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंकसंकलनहाइकु
अभिव्यक्तिहास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतरनवगीत की पाठशाला

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है।

अपने विचार — पढ़ें  लिखें

Google
Loading

प्रकाशन : प्रवीण सक्सेना -- परियोजना निदेशन : अश्विन गांधी
संपादन¸ कलाशिल्प एवं परिवर्धन : पूर्णिमा वर्मन

सहयोग :
कल्पना रामानी