अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

डॉ. आनन्द के दोहे

जन्म तिथि : नवम्बर १९५४
शिक्षा - एम. ए. (हिंदी), पी-एच. डी.
कार्यक्षेत्र - अध्यापन
एक नाटक 'मुझे न्याय चाहिए' तथा एक दोहा संग्रह 'माटी कहे कुम्हार से' प्रकाशित। पत्र पत्रिकाओं एवं संकलनों में कहानी, लघुकथा, कविताएँ एवं अन्य रचनाएँ प्रकाशित। आकाशवाणी केन्द्र पटना एवं भागलपुर से काव्य, वार्ताएँ एवं कहानियाँ प्रसारित।
पिछले तेरह वर्षों से 'अपूर्व्या' हिंदी साहित्यिक मासिक का नियमित संपादन। अनेक साहित्यिक एवं सांस्कृतिक संस्थाओं द्वारा सम्मानित। अहिंदी भाषियों के बीच हिंदी का प्रचार-प्रसार करने एवं परस्पर सद्भावना विकसित करने हेतु समाज को साहित्य से जोड़ने में विशेष रुचि।

संपर्क-
dr.usanand1@gmail.com 

 

अनुभूति में डॉ. आनन्द के दोहे-

नये दोहे-
बदल गया अब आदमी

दोहों में-
फैलाएँ सद्भाव
हुए सुवासित

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है