अंजुमन उपहार । कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम
गौरवग्रंथ
दोहे रचनाएँ भेजें नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन
हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 


ptJar 
kuC ha[ku

Da^• manaaoja saaonakr

  kao[- na sagaa
dr#t hiD\DyaaĐ
p%ta BaI Bagaa.

poD, hOM kaosao
hrIitmaa baovafa
qaaoqao Baraosao.

vana tao naMgaa
ptJar sanakI
macaae dMgaa.

phaD, gaMjaa
ptJar laD,akU
maara hO pMjaa.

  tuma @yaa gae
ptJar hI Cayaa
pat na nae.

pMCI inaraSa
dr#t kMkala
dvaa na pasa.

BaUrI saI Saama
]trI zĐUzaoM pr
sadI- ko naama

saurja zMDa
ptJar jauJaa$
sadI- ka DMDa.

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।