अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 

हे अमलतास





 

तपती धरती करे पुकार,
गर्म लू के थपेड़ों से,
मानव मन भी रहा काँप
ऐसे में निर्विकार खड़े तुम
हे अमलतास।

मनमोहक ये पुष्प-गुच्छ तुम्हारे,
दे रहे संदेश जग में,
जब तपता स्वर्ण अंगारों में,
और निखरता रंग में,
सोने सी चमक बिखेर रहे तुम
हे अमलतास।

गंध-हीन पुष्प पाकर भी,
रहते सदा मुसकाते,
एक समूह में देखो कैसे,
गजरे से सज जाते,
रहते सदा खिले-खिले तुम
हे अमलतास

हुए श्रम से बेहाल पथिक,
छाँव तुम्हारी पाएँ,
पंछी
भी तनिक सुस्ताने,
शरण में तेरी ही आयें,
स्वयं कष्ट सहकर राहत देते तुम
हे अमलतास।

बचपन से हम संग-संग खेले,
जवाँ हुए है साथ-साथ,
झर-झर झरते पीले पत्तों सा,
छोड़ न देना मेरा हाथ,
हर स्वर्णिम क्षण के साथी तुम
हे अमलतास।

सुनीता शानू
16 जून 2007

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है