अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

वेणु वन में
 

मृदु पारदर्शी
गंध सी तिरने लगी
फिर किसी ने याद
भूले से किया

बाँस के उन झुरमुटों
में खो गए थे
छोर कुछ स्वप्निल
कथाओं के

वेणु वन में
बाँसुरी बजने लगी
इस तरह अंतस
किसी ने छू लिया

मिट गए विछोभ के
आवर्त मन के द्वीप से
एक मोती ने
लिया है जन्म
सुधि की सीप से

साँझ फिर से
मोर पंखी हो गयी
और तुलसी पर
जला नन्हा दिया

छँट गया है
धुँधलका अवसाद का
उगने लगा अँकुर
सहज विश्वास का

स्वप्न वसना
चाँदनी हँसने लगी
एक मोहक पल
अपरिभाषित जिया

- डॉ मधु प्रधान
१८ मई २०१५

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter