अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

बढ़े बाँस से
 

पोर-पोर
दुख से भारी है
पातिन हरी हँसी
धरती पर थे पाँव
नज़र पर नभ में रही धँसी

काश, अधिक ऊँचे होते कुछ
नखत तोड़ लाते
कुछ साधन, कुछ सुख-सुविधाएँ
और जोड़ लाते
झुके भूल
ऊँचाई अपनी डूबे
सरवर में लेकिन अपने
हक़ की कोई मछली नहीं फँसी

इस युग में अपना मन कब तक
रहता हरा-भरा
यह नीरस तन-प्राण बढ़ा
दिन-दिन भूरा-भूरा
बंशी-बंशी
बजे हुए जितने-जितने
छिद्रिल, सूखे हैं पर सुर
की सरिता हम में रही बसी

काण्ड-काण्ड-भर बढ़ी कथा
हम सीधे हुए खड़े
युद्धकाण्ड तक अंतर्मन के
युद्ध अनेक लड़े
लिख डालेंगे
हर युग के इतिहास-
पुराण सभी बनें लेखिनी,
अगर बनेंगे सात-समुद्र 'मसी'

कहीं खोखलापन भी अपने
भीतर रहा भरा
कहीं कठिन प्रतिरोधक स्वर भी
इससे ही उभरा
जीवन-भर
संतुलन साध, उस पर
बढ़ते डग-डग चार बाँस
के पैरों में जो रस्सी रही फँसी

बढ़े बाँस-से, बढ़े ताड़-से,
बढ़े खजूर बड़े
इतने बढकर,झुका शीश
दरबार, हुजूर! खड़े
अगर चाहते,
हम लग्गी से मेघ
तोड़ लाते सुख की बदली
घर-आँगन में एक नहीं बरसी

चली हवा बैरिन तो अपनी
कमर हुई दुहरी
छिन-छिन अपने तन-मन झेली
सारी दोपहरी
बंधु! कहो
यह आकांक्षा क्या
अपनी अनुचित है? बरसे हम
पर आँख आपकी नीले अम्बर-सी

पर्व-पर्व-भर भक्ति-भागवत
रही करुण स्वर रो
काण्ड-काण्ड-भर बढ़ी कथा की
फल-श्रुति कुछ भी हो
रस-पेशिल
जीवन की लेकर साध
जिए युग-भर अस्थिशेष हम
ज्यों कि आम की गुठली रही चुसी

शाख-शाख-भर बढ़ते तो
चिड़ियों के भी होते
कुछ सुर की थाती सँघवाते
कुछ दुख निज खोते
दिवस-दिवस-
भर सोना बिखरा
अपने घर-आँगन हमने
छुई ताँबई भोरें रातें श्यामल-सी

- पंकज परिमल
१८ मई २०१५

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter