अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

बाँस झर गए
 

फर गये
बाँस झर गये बाँस
तन-मन फूले रुक गयी साँस

किसने पाया यह सुखद अंत
मरघट पर आया हो वसन्त?
दिन-रात साधना चिर-अनन्त
मौनीबाबा कलियुगी सन्त

नदिया के
तट छुपकर मिलते
पर रह-रहकर तुम रहे खाँस

जब-जब होती भागवत कथा
गाँठें दे जातीं सघन व्यथा
गोकर्णों से धरती भारी
तर गये अनेक धुंधकारी

पतली सी
कमची हरी-भरी
मरमरी गले की बनी फाँस

बँसवारी की सर-सर मर-मर
पगडंडी चलती डगर-मगर
दुपहर में उतरी साँझ अरे
पत्तों के पग में झाँझ अरे

बादल अषाढ़
का ज्यों बरसा
धरती से फूटी नयी गाँस

- उमाप्रसाद लोधी
१८ मई २०१५

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter