अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

सूरजमुखी की कविता: बरगद के लिये
 

 






 

बरगद के नीचे
कुछ भी नहीं पनपता
या कि बरगद अपने नीचे
किसी को पनपने नहीं देता
प्रयोग के तौर पर
रख दिया बरगद के नीचे
सूरजमुखी लगा एक छोटा सा गमला
वाकई बरगद फुफकार उठा
अपने सान्निध्य में
किसी को पनपते देख
और उसने रोक दी
उसकी धूप
हवा
पानी
और खिलने का उत्साह।
बरगद ने रोक दी सूरजमुखी की पहचान
रोक दी उस तक आने वाली
हर नजर को।
पहले से सूरजमुखी का बरगद से
अधिक परिचय नहीं था
बस जानते भर थे एक दूजे को
पर उसके नीचे आते ही उसे
पता चला कि
दूर से दिखने वाली विशालता
अंदर से कितनी बौनी है
सूरजमुखी ने देखा
कई कंटीली झाड़ियों को
बरगद के नीचे बिल्कुल हरी भरी।
बरगद को इनसे
कोई शिकायत नहीं थी
सूरजमुखी के गमले की मिट्टी
काफी गीली है
हवा चुरा लेता है थोड़ी-थोड़ी
और मन में फैली
आत्मविश्वास की धूप से
गुजर जाएगा प्रत्येक ग्रहण।
सूरजमुखी को पूरा विश्वास है
कि धूप पहुँचने ही वाली है उस तक
तब उसकी आभा
सौंदर्य और वजूद के आगे
बरगद रहेगा रूखा, सूखा
और फीका पहले की तरह
लेकिन कुछ समय की कुंठा के जवाब में
सूरजमुखी का फूल लिखता है एक कविता...
'बूढ़े, रूखे और खोखले
बरगद के तले
फूटने वाले हैं कई अंकुर
ज्वालामुखी बनकर।'

-कुंजन आचार्य
६ जून २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter