अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

बरगद
 

 






 

ज़मीन में गहरी अड़ी है
जिसकी परम्परा
और छतरी की तरह फैली है
जिसकी कोशिश
उलझा है जो
धरती और आसमान के बीच
कार्बनिक रसायन की गुत्थियों में
बैंज़ीन-चक्र की तरह

जड़ बनकर
फिर ज़मीन पकड़ते हैं जिसके तने
सदियों से गाँव के बाहर जुगाली करता
पिता-सा डायनोसार
जिसकी छाती पर बैठे हैं मकड़ी,
बन्दर और गिलहरियाँ
और जो चीटीं रेंगती है उसके पत्तों पर
ज़मीन में गहरी अड़ी है उसकी भी परम्परा
और छतरी की तरह फैली है
उसकी भी कोशिश।

-संजय चतुर्वेदी
६ जून २०११

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter