अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr kI trh

 

jaIvana ko saUKo pIlao pnnaaoM kao
hlko sao sarahto hue tumanao kha qaa
ija,MdgaI isa‘- ptJaD, nahIM hO
Apnao Aa[nao maoM JaaMk kr tao doKao
]sa pla
maorI AaMK kI namaI kao caUmaa qaa
tumharo Pyaar ko BaInao lamhaoM nao
AaOr maOMnao jaIvana vasaMt BaI hO jaanaa qaa
Aaja BaI , , ,jaba jaba mana ]dasa haota hO
jaba kBaI BaI ija,MdgaI ko dr pr
kD,I QaUp dstk dotI hO
]sa pla
tumharI yaadaoM ko BaInao lamho
mauJao baahaoM maoM Gaoro rhto hOM
AaOr maOM gaulamaaohr kI trh iKla ]ztI hMU.

ómaInaa CoD,a

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter