अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr: tIna dRSya

 

ek

kalaI Damar kI saD,k
ATI pD,I hO
Jaro gaulamaaohr ko fUlaaoM sao
[sa daophrI maoM
AaAao cauna laoM [nhoM
yao maaOsama pta nahIM
kba baIt jaae

dao

saod caaya kI PyaalaI
AaOr laala gaulamaaohr
jaOsao maorI saod saaD,I
naIcao laala paD,
basa
ek fUla kI kmaI hO
AaAao KaoMsa dao na
maoro baalaaoM maoM
ek gaulamaaohr

tIna

tptI daophrI maoM
samaya zhr jaata hO
Damar kI saD,k camaktI hO
pIz pr pD,I sapI-laI caaoTI jaOsaI
a^k ko Gaoro maoM gaulamaaohr baInatI laD,kI
kba badla jaatI hO marIicaka maoM

p`%yaxaa

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter