अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr ilae ?tugaMQa

 

SacaI ko kana ka JaUmar iCTk kr Aa igara BaU pr
yaa naK hO ]va-YaI ko paMva ka jaao fUla bana Aayaa
pD,I hO Cap kao[- yao ihnaa rMgaI hqaolaI kI
iksaI kI klpnaa ka ica~ kao[- hO ]Bar Aayaa

camak hO kana kI laaO kI¸ lajaatI ek dulhna kI
]tr kr Aa ga[- hO @yaa¸ khIM saMQyaa p`tIcaI sao
iksaI pItaMbarI ko paT ka fuMdnaa sajaa kao[-
khIM yao Aahuit inaklaI hu[- hO ya&¹Aigna sao

iksaI Aar> lajjaa ka saMvarta iSalp saMBava hO
javaakusaumaI pgaaoM kI jama ga[- ]D,tI hu[- rja hO
yaa kuMkuma hO ]Yaa ko haqa sao iCTka ibaKr Aayaa
yaa gaulamaaohr ilae ?tugaMQa SaaKaoM pr calaa Aayaa

—rakoSa KMDolavaala

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter