अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr ka poD,

 

saD,k ko iknaaro KD,a hO
ek gaulamaaohr ka poD,
daophr jaba calatI hO laU
AaOr pd yaa~I saayao ZUMZto — 
iKsakto jaato hOM¸
vah Apnao laala fUlaaoM ka — 
maaiNak–ibaKra dota hO¸
cauMiQayaayaI AaMKoM 
fD,fD,a kr Kula jaatI hOM¸
AaOr 
baaoiJala pOraoM ka Baar 
]D,na–CU hao jaata hO¸
htp`Ba paiqak saaocata hO¸
@yaa yah ga`IYma kI kao[- kivata hO¸
yaa iksaI catur icatoro nao 
laala rMga sao rah saMvaarI hO
saomala¸ pIpla AaOr 
gaUlar ka sahyaaogaI
vah gaulamaaohr ka poD,
janapqa kao iktnaa lailat banaata hO.

—saaohnaI dyaala

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter