अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr kI CaMh
³paMca daoho´

 

gaulamaaohr kI CaMh maoM garmaI kI caaOpala
fUlaaoM vaalao dIp hOM maaTI vaalaa qaala

caMvar ihlaa kr kh rhI gaulamaaohr kI baaMh
Apnaa samaJao jaao hmaoM Aae hmaarI CaMh

saD,koM ijatnaI jala rhIM naBa ijatnaa baocaOna
gaulamaaohr kI CaMh  maoM  mana kao ]tnaa caOna

haqaaoM maoM vah fUla hO jaMgala maoM hO Aaga
saD,kaoM ka saaOMdya- hO Cayaa maoM Anauraga

gaulamaaohr  kI  CaMh  ka  saUrja  sao saMvaad
[sa maaOsama kI saala Bar @yaaoM AatI hO yaad

—pUiNa-maa vama-na

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter