अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

hMsao gaulamaaohr laala
³saat daoho´

  JaukI JaukI hOM DailayaaM laukIiCpI hOM CaMva
gaulamaaohr baulaae tlao qako piqak ko paMva

kanaaoM  maoM  gaunagauna  kro baityaatI hO Dala
daophrI jala jala maro hMsao gaulamaaohr laala

inaKra  rMga  hr  fUla ka AaMgana kI hO Saana
idlakSa iKlata gauilastaM rKta sabaka maana

gaulamaaohr  rMganao  lagaa  daophrI  saunasaana
QaImaa  JaaoMka  hvaa  ka ek saurIlaI tana

isaMdUrI  kalaIna  pr  gaulamaaohr  SaalaIna
tna  ka ihMDaolaa Dulao  mana kaho ga,magaIna

garma  qapoD,o  bah  rho  gaulamaaohr mauskae
hr maaOsama maoM KuSa rhao yahI hmaoM samaJaae

naa hI $zo gaulamaaohr naa Jaro hvaa ko saMga 
maaOsama ka SaRMgaar hao laala caunairyaa AMga

— dIipka jaaoSaI 'saMQyaa'

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter