अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

maadk gaulamaaohr
³paMca daoho´

 

laala galaIocao sao sajaIo, ifr pgaDMDI Aaja 
p`kRit sauhanaI laga rhI, phna maUMigayaa taja



garmaI ko hr jaulma kao, sahkr ko caupcaap
gaulamaaohr kI CaMva [k hro piqak ka tap



fUla isaMd,UrI maaMga Bar phna hirt pirQaana
maadk gaulamaaohr Jauko nahIM tinak AiBamaana



laala rMga maadk lagaoM BaroM ica%t Anauraga
gaulamaaohr ko fUla sao jagaI p`oma kI Aaga



tapsa kI tojaisvata yaa maMgala ka rMga
gaulamaaohr ko fUla mao inaKra $p AnaMga

—sa%yanaarayaNa isaMh

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter