अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr ko fUla

 

xaiNak hI BaUlao¸ magar BaUlao
gaulamaaohr ko fUla
ifr fUlao

kizna QartI pr huAa hO pOr rKnaa
bahut mahMgaa huAa jaIvana svaad caKnaa
ikMtu maRdu JaaoMko ivacaaraoM ko
)dya JaUlao
gaulamaaohr ko fUla
ifr fUlao

snaoh kI sairta iknaaro CaoD, baOzI
naava vaalaa maQaur naata taoD, baOzI
caahtI hO kao[- ifr BaI
doh CUlao
gaulamaaohr ko fUla
ifr fUlao

—pM ,igairmaaohna gauÉ nagarEaI

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter