अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gaulamaaohr iKlaa hO

 

ivaSva ka EaRMgaar krnao Aaja gaulamaaohr iKlaa hO

jaoz kI inava-sana raka 
Ca rhI ]nmaad banakr
gama- saaMsaaoM kI hvaa maoM 
cauMbanaaoM ko Baap sauKkr
p`oma kI maidra maoM DUbao 
imala rho Aakula AQar hOM

icar imalana kI Pyaasa laokr baaMh maoM isamaTI p`kRit sao
Anavart AiBasaar krnao Aaja gaulamaaohr iKlaa hO

naIMd sao baaoiJala plak maoM 
svaPna banakr naacatI tuma
rat ko AMitma phr maoM 
po`ma kivata baaMcatI tuma.
ifr ivada haoto samaya 
tumanao kha yah fUla lao laao

Jauk ga[- rtnaar DalaI AaOr maOM samaJaa tumharo
Pyaar ka ]phar laokr Aaja gaulamaaohr iKlaa hO

ip`yava`t caaOQarI

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter