अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

गुलमुहर की छाँव में

 
गुलमुहर की छाँव में, जो गा रहे हैं
दर्द को भी कला से
बहला रहे हैं

क्या हुआ जो नदी भी प्यासी यहाँ है
स्वेद के घर में उदासी भी यहाँ है
प्यास जाये या न जाये
भाषणों के मेघ तो
बरसा रहे हैं

वे अनावृत देह की पेंटिंग बनाते
भूख की तस्वीर से घर को सजाते
भूख जाये या न जाये
आंकड़ों की फसल तो
लहरा रहे हैं

नींद में उनकी खलल कोर्इ न डाले
नहीं दंगों की लपट उन पर उछाले
तिमिर जाये या न जाये
दूधिया विद्युत से घर
चमका रहे हैं

वे पड़ोसी चीख को उलझन समझते
गोलियों से देश की किस्मत बदलते
दर्द जाये या न जाये
कागजी त्योहार घर-
घर ला रहे हैं

- राधेश्याम बन्धु
१६ जुलाई २००६

 

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter