अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

kba sao KD,I hO gaulamaaohr

 

maoro Gar ko saamanao¸ kba sao KD,I hO gaulamaaohr
jaao BaI Aata Gar hmaaro¸ yao rKo ]na pr naja,r

hr SaaK AaO' hr pat pr hI
yaad dada kI ilaKI
mana kao sauhanaI Ait lagao
jaba kUktI [sa pr ipkI

haolaI ko rMga maoM rMga rha hO¸ Aaja saara hI Sahr
rMgatI p`Ìit BaI laala rMga sao¸ faga maoM hr gaulamaaohr

hirt¹Cata bana KD,I hO¸
jaUna kI BaI QaUp maoM
Ka rhI hO inat p`dUYaNa¸
KaV ko hI $p maoM

dIpavalaI ko Aagamana pr¸ saja rha hO hr nagar
sauK- saaD,I AaoZ, Kud BaI¸ saja ga[- yao gaulamaaohr

— saMtaoYa kumaar isaMh

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter