अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

gauilastaM kI Ada hO

Sabd sahayata:
sanaa ÄraoSanaI
sabaa ÄpurvaOyaa 
igaja,aÄ paOiYTk Aahar tskInaÄAarama fraogačečAdbaÄsaaih%ya ka p`kaSa

nagamaa hO yaaraoM yao sanaa hO AaOr sabaa hO
saunato hOM gaulamaaohr tao gaulaisataM kI Ada hO

@yaa rMga hO @yaa $p hO idlakSa hO naja,ara
gaulamaaohr tao [Msaana kI AaMKaoM kI iga,ja,a hO

yao caOnačAaočsaukUM hO yao tskInačečijaM,dgaI
hr duKto hue idla kI yao AksaIr dbaa hO

saaocaao tao idlače baokrar kao krar hO
idla maoM jaao ]tr jaaya tao yao na@SačečvaÔa hO

tOyaba yao CUlao AasmaaM caUmao hvaa [sao
dota rho fraogačečAdba maorI duAa hO

— jagadISa p`saad saarsvat 'ivakla tOyaba'

16 jaUna 2006

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter