अंजुमन उपहार । कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम
गौरवग्रंथ
दोहे रचनाएँ भेजें नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन
हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 


dsa gaulamaaohr ha[ku

 

caaraoM trÔ
fOlao gaulamaaohr
maaor pMK sao

fUla p%tI sao
sajao rMga ibarMgao
gaulamaaohr

toja, qaI AaMQaI
TUTa gaulamaaohr
sapnaaoM jaOsaa

rahgaIraoM ka
gaulamaaohr Ganaa
CtrI banaa

BaTka mana
gaulamaaohr vana
bana ihrna

nanhI icarOyaa
gaulamaaohr pr
fudkI ifro

idSaaeM saBaI
gaulamaaohr lagaIM
sajaa[- hu[-

caaMdnaI rat
gaulamaaohr saaqa
haqa maoM haqa

qaa pllaivat
mana maora doKa jaao
gaulamaaohr

ittlaI bana
calaa gamaI- ko gaaMva
gaulamaaohr

—Baavanaa kMuAr

16 jaUna 2006

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।