अंजुमनउपहार काव्य संगम  गीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथ
दोहेसंकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर

हरसिंगार (हाइकु)

 


बिटिया आई
झरे हरसिंगार
घर मंदिर

-शशिकांत गीते



बिखरे सपने
जमीन पर जैसे
हरसिंगार।

-राजेन्द्र कांडपाल


हरसिंगार
महके एक रात
प्रसन्नचित्त

-इंदुबाला सिंह

 

हार सिंगार
सूर्य ने छीन लिया
राजसी ठाठ

-नवल किशोर नवल


 

चाँदनी आई
शैफाली को ओढ़ाई
श्वेत चूनर

सफ़ेद चोला
ओढ़ हरसिंगार
खिला - महका

-सरस्वती माथुर



शिव के प्रिय
खिले रात्रि प्रहर
हरसिंगार

लजा सूर्य से
झर झर झरते
हरसिंगार

- भावना सक्सैना

 

हरसिंगार
पहन कर्णफूल
सजी रजनी

- सुशीला शिवराण

 

श्वेत चाँदनी
धरा की चुनरिया
झरे प्राजक्त

-शशि पुरवार

 

अँधेरी रात
सुगंध सौन्दर्य फैले
जगाती आस

-ज्योतिर्मयी पंत

१८ जून २०१२

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter