अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

खिला कमल
कमल के फूलों को समर्पित कविताओं का संकलन

अनुक्रम

गीतों में-

 

१.

इक कमल था

धर्मेन्द्र कुमार सिंह ‘सज्जन’

२.

कमल सामने है

कुँअर बेचैन

३.

पुष्पराज खिलने को है

ललित अहलूवालिया 'आतिश'

४.

फूला फूल कमल का

रावेंद्रकुमार रवि

५.

भोर हुई

गीता पंडित

यह सबक छूटे न हमसे

सुभाष राय

छंदमुक्त में-

 

७.

कमल और कीचड़

सुरेश यादव

८.

कमल के फूल

भवानी प्रसाद मिश्र

१०. कवि का आभार संस्कृता मिश्रा
११.

क्यों जी, कमल जी

धीरेन्द्र सिंह

१२.

गाँव के ताल में कमल

सुभाषिनी खेतरपाल

१३.

चल कहीं और चलें

प्रिया सैनी

१४.

चाहती तो हूँ

इंदिरा मिश्र

१५.

तुम कमल का एक पत्ता

राजेन्द्र उपाध्याय

१६.

नील कुवलय से नयन

रामेश्वर कांबोज हिमांशु

१७.

भँवरा और कमल

मनीषा शुक्ला

१८

मैं नलिनी

कमला निखुर्पा

क्षणिकाओं में-

 
१९.

सच कहा

निलेश माथुर

२०

योगी और कमल

संस्कृता मिश्रा

मुक्तक में-

 
२१

तीन मुक्तक

हरिकृष्ण सचदेव

हाइकु में-

   
२२

कमल (दस हाइकु)

अरविंद चौहान

२३

कमल (दस हाइकु)

भावना कुँअर

अन्य-

 

२४

कमल के बहाने

अमित कुलश्रेष्ठ

२५

पंक में पंकज खिले

संतोष कुमार सिंह

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter