अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

पीपल बुलाता है
 

 

प्रखरतम धूप बन राहों में, जब सूरज सताता है।
कहीं से दे मुझे आवाज़, तब पीपल बुलाता है।

ये न्यायाधीश मेरे गाँव का, अपनी अदालत में,
सभी दंगे फ़सादों का, पलों में हल सुझाता है।

कुमारी माँगती साथी, विवाहित वर सुहागन का,
है पूजित विष्णु सम देवा, सदा वरदान दाता है।

बड़े बूढ़ों की ये चौपाल, बचपन का बने झूला,
बसेरा पाखियों का भी, सहज छाया लुटाता है।

नवेली कोपलें धानी, जनों को बाँटतीं जीवन,
पके फल से हृदय-रोगी, असीमित शान्ति पाता है।

युगों से यज्ञ का इक अंग, हैं समिधाएँ पीपल की,
इसी के पात हाथी चाव से, खुश हो चबाता है।

घनी चाहे नहीं छाया, मगर पत्ते चपल, कोमल,
हवाओं को प्रदूषण से, सजग प्रहरी बचाता है।

मनुष इसकी विमल मन से, करे जो‘कल्पना’सेवा,
भुवन की व्याधियों से इस, जनम में मोक्ष पाता है।

-कल्पना रामानी
२६ मई २०
१४

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter