मातृभाषा के प्रति


हिंदी में कितना अपनापन

हिंदी में कितना अपनापन, देखो तो परदेश में।
क्यों हिंदी का सूना आँगन फिर अपने ही देश में।।

देश वही उन्नत होता है,
जिसकी भाषा एक हो।
भले वहाँ पर धर्म जाति के,
बंधन कई अनेक हों।।
यहाँ भटकती कई भाषाएँ बंजारिन के वेष में।
क्यों हिंदी का सूना आँगन फिर अपने ही देश में।।

मिला राष्ट्र भाषा हिंदी को,
इतना दृढ़ आधार है।
हिंदी के साहित्य कोष का,
सब पर कर्ज़ उधार है।।
हिंदी में जो चाहो कह लो छोटे से संदेश में।
क्यों हिंदी का सूना आँगन फिर अपने ही देश में।।

भारत में हिंदी भाषा में,
सारे विधि विधान हैं।
शायद ही कोई ऐसा हो,
जो हिंदी से अंजान है।।
हिंदी का हो फूल सुगंधित भारत माँ के केश में।
क्यों हिंदी का सूना आँगन फिर अपने ही देश में।।

सजीवन मयंक
16 सितंबर 2006

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है