होली
है
!!

 

होली के अ-दोहे


मकरन्द भरी मन्द-मन्द बहे फागुनी बयार
उषा की लालिमा करे हृदय का राग शृंगार

नैनों को बरबस लुभाती खेतो की हरियाली
अबीर गुलाल में घुली हुई पलाश की लाली

घर-आँगन, चौबारे, आज रंगो की छाई धूम
होली का उल्लास,गूँजे झाँझ-मजीरों का नाद

भीगे तन, खिले मन, चढा प्रियजन का स्नेह रंग
साम गान की सुमधुर ध्वनि मादकता के संग

कई रंग देखे, कई गीत गाये,
होली का मंगल पर्व पराग भरे पुष्प खिलाय

आत्म सर्मपण की भावना का प्रतीक होली
दुश्मनों को गले लगाती अजनबी को हँसकर मिलाती

बृजेश कुमार शुक्ला

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।

website metrics