होली
है
!!

 

फागुन के दिन चार


तासा बजा मगन के अंगना
हँसने लगा दुआर
दुलहिन उठो
उचारो पचरा
फागुन के दिन चार!

पहिरो कोई बियहुती सारी
डारो गरे हुमेल
काजर नैन
बैन रसवंती
अरकन तेल-फुलेल
कंकना कसो कलाई
बिछुवा
अंगुरिन रहो सुधार!!

ऐसे दिन न बहुरते
बहुअरि!
जिनके आदि न अंत
बरिस न बसे भवन परदेसी
बरिस न बसे बसंत
ना अब तपे कलमुहाँ ग्रीसम
ना अब रिसै कुवार!!

- डॉ. राजेंद्र मिश्र

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।

website metrics