पिता की तस्वीर
पिता को समर्पित कविताओं का संकलन

 

डाक
(पिता जी के लिए)

बारिश में भीगता चला जाता
लाल कोट पहने डाकिया
थैला भर डाक से लदा,
काग़ज़ों में संदेश अच्छे बुरे कुछ
निमंत्रण कुछ अस्वीकार
अक्सर वो बिल ही गिरा जाता है,
मेरे पिता भी डाक ले जाते थे
गाँवों के बीच रुकते कहीं बीच सांस लेने
थोड़ा तंबाकू
पढ़ते दिल्ली से आई अपनी ही लिखी चिठ्ठी अपने नाम
पानी की आवाज़ छूती हर पत्थर घास शिखरों के परे
सफ़ेद घुमक्कड़ बादलों को,
हर सांस को

कब आ रही है सुबह की डाक
चंदन का पहला सवाल
कई महीनों से
पहला सवाल
और मैं लौटा नहीं जवाब के साथ
नहीं चला गया बारिश में,
चमकती गर्मी में
तीखी सर्दी में
ठहरी हुई उमस में
अपनी असहायता को उठाए,
जैसे फटी हुई पतंग को उड़ाने की कोशिश में -
दौड़ता मैदान के आर पार
बिना रुके
और वह फटती चली जाती है और, और उस दौड़ में
भूल ही जाता हूँ अपने पाँवों को भी

- मोहन राणा


इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।

website metrics