पिता की तस्वीर
पिता को समर्पित कविताओं का संकलन

 

सतत नमन

बने रहे जो जीवन भर
परिवार का संबल
माँ का अटूट विश्वास
अपनी भुजाओं में समेटे
कराते पूर्ण सुरक्षा का अहसास
जीवन में सफलता का
सोपान बनते,
त्याग अपना निज वैभव
संसार,

जो संस्कारों का बीज रहे रोपते
बेल बढ़ाते अनुशासन की
आत्मविश्वास के दीप में
कठोर श्रम की डाल बाती
टूटते विश्वास
क्षीण होते उत्साह में,
नई चेतना का करते रहे
संचार

आज जब
बरसों से पलता
सपना साकार हुआ
आकाश जैसी विशालता
हृदय में सागर की गहराई जिनके
छू उनके चरणों की रज
करता सतत नमन।।

- बृजेश कुमार शुक्ला


इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।

website metrics