वसंती हवा

आएँगे ऋतुराज (दोहे)
- यतीन्द्र राही

 

ओठों पर शतदल खिले, गालों खिले गुलाब
हरसिंगार बन झर रहे, अंग-अंग अनुभाव।

कोयल ने जब से कहा, धरा आम ने मौन
बल्लरियों के हो गए, रंग-ढंग कुछ और।

खिली कली कचनार की, दहका फूल पलाश
नव लतिकाएँ बाँचतीं, ऋतु का नया हुलास।

बैठो दो क्षण बाँध ले फिर हाथों में हाथ
जाने कब झड़ जाएँगे, ये पियराने पात।

कस कर चिपके डाल से, सुनकर पियरे पात
आएँगे ऋतुराज कल, लेकर स्वर्ण प्रभात।

वन-पर्वत-हिमनद विकट, सागर मरुथल पार
जहाँ न अंकुर उगता, वहाँ फूलता प्यार।

जाने क्या कुछ कह गया, भौंरा ऐसी बात
यह मोली कचनार फिर रोई सारी रात।

९ फरवरी २००९

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है