अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 


saunaIla 'dainaSa'

iSaxaa – ema•e• ³]d-U´
janma– 25 navambar 1964 
phlaI gaja,la – janavarI 1986
]stad – raja [laahabaadI

saaih%yak ]plaibQa – mahamaihma rajyapala Da^•baI• sa%yanaarayana roDI Wara BaartIya pirYad p`yaaga
ka saarsvat sammaana

gaitivaiQayaaÐ – saicava Ala–Adba tqaa saMyau> saicava p`gaitSaIla laoKk saMGa.

 

AnauBaUit maoM saunaIla 'dainaSa' kI rcanaaeM 

kuC Saor

saUrja hO AasamaaÐ po

khIM pr AasamaaM BaI

baZ, ko maMijala sao

tD,pto idla kao

saMklana maoM 

gaaMva maoM Alaava – phlaa idna

 

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।