अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

अनुभूति में सुरेश कुमार उत्साही की रचनाएँ-

अंजुमन में-
अगर ख्वाब का प्यार
नहीं ज्ञान बाँटो
पड़ी है बीच में नैया
बुढापा आ गया अब तो
मिला जो दर्द मुझको है

 

बुढ़ापा आ गया

बुढापा आ गया अब तो, जवानी क्यों नहीं आयी
सदा गतिरोध ही आया, रवानी क्यों नहीं आयी

सुबह की रोशनी पीकर, किरण की जिंदगी जीकर
मनुज के गाँव में मधुऋतु, सुहानी क्यों नहीं आयी

बने जो रेत पर घर थे, गिरे हैं ज्वार के कारण
पिलाने घूँट अमृत का, सयानी क्यों नहीं आयी

समूचा स्वर्ग आ पहुँचा, पधारे हैं यहाँ प्यारे
जले हैं दीप मन्दिर में, भवानी क्यों नहीं आयी

निशा को छोड़ करके हम, निकल बाहर सभी आये
कभी उर दीप की बाती, जलानी क्यों नहीं आयी

सुधा की धार में बहकर, लहर के प्यार को सहकर
घटा पर बीज की टहनी, उगानी क्यों नहीं आयी

नदी जलनिधि बनी चलकर, किरण हँसने लगी जलकर
खड़े थे पास मेरे सब, दिवानी क्यों नहीं आयी

१५ मार्च २०१७

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter