अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

मंजुल भटनागर के हाइकु

ई मेल- manjuldbh@gmail.com

 
सूरज उगा
भोर ने बुहार दी
स्वप्निल रात
२.
शाम की थाली
सौगातों से भरती
निशा उतरी
३.
बिरह जगे
मेघा बरसे आँसू
प्रीत क्यों जले
४.
होती बारिश
भीगते अहसास
परदेश में
५.
यारा बेरुखी से
बनती नहीं बात
आ बैठें साथ
६.
मौन प्रणय
पारस बन जाता
दिव्यता पाता
७.
बादल छौने
सावन देख उड़े
धरा बिछौने

९ फरवरी २०१५
 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter