अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्तिकुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

आनंद कृष्ण

जन्म- ७ सितंबर १९६६।

शिक्षा :-
इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग; भारतीय इतिहास; हिंदी, इंग्लिश और उर्दू साहित्य, फ्रेंच भाषा, सुगम संगीत।

सम्प्रति :-
जन संपर्क अधिकारी, भारत संचार निगम लिमिटेड, जबलपुर।

सृजन की विधाएं :-
कविता, कहानी, अनुवाद।

मूल विधा :-
समीक्षा।

ई मेल- anandkrishan@yahoo.com

  दिन भर बोई धूप

निकल पड़ा था भोर से पूरब का मज़दूर
दिन भर बोई धूप को लौटा थक कर चूर।

पिघले सोने सी कहीं बिखरी पीली धूप
कहीं पेड़ की छाँव में इठलाता है रूप।

तपती धरती जल रही, उर वियोग की आग
मेघा प्रियतम के बिना, व्यर्थ हुए सब राग।

झरते पत्ते कर रहे, आपस में यों बात-
जीवन का यह रूप भी, लिखा हमारे माथ।

क्षीणकाय निर्बल नदी, पडी रेट की सेज
"आँचल में जल नहीं-" इस, पीडा से लबरेज़।

दोपहरी बोझिल हुई, शाम हुई निष्प्राण.
नयन उनींदे बुन रहे, सपनों भरे वितान।

उजली-उजली रात के, अगणित तारों संग.
मंद पवन की क्रोड़ में, उपजे प्रणय-प्रसंग।

८ जून २००९

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter