अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 

डॉ० जीवन प्रकाश जोशी
के हाइकु

 

 

 

बुझा सूरज
क्षितिज की आड़ में
हँसी रजनी।

कुहासे में से
निकलती किरण
जैसे जयश्री।

मैंने उगाया
वे उगे, फले नहीं
काँटों-से चुभे।

सर्पिल राह
आकाशगंगा हुई
जितनी चली।

तूफान उठा
उखड़े ऊँचे पेड़
जमी है घास।

फुनगी पर
फुदकी बैठी, मानो
मेरी उमंग।

आ पतझर
आ, गिरा पीले पात
ला हरापन।

२२ सितंबर २००८

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है