अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे
पुराने अंकसंकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

नागेश भोजने

जन्म- १० अगस्त, १९७६ को महाराष्ट्र के जिला अमरावती, ग्राम- खोपड़ा ।

शिक्षा- एम. ए. हिंदी ( साहित्य), एम. ए. (प्रयोजनमूलक हिंदी), एम. एड.।

कार्यक्षेत्र- अध्यापन कार्य (डी.पी.एस, शारजाह), व स्वतंत्र लेखन।

साहित्यिक उपलब्धियाँ- साहित्यिक सामाजिक अवसरों के लिए समय-समय पर लेखन, कुछ रचनाएँ पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित।

संप्रति- दिल्ली प्राईवेट स्कूल, शारजाह में अध्यापन।

ई-मेल- nbhojane278@gmail.com

 

हाइकु

(१)
संसार छोटा
मानव तू है बड़ा
कर प्रार्थना।

(२)
झरना स्वच्छ
प्रकृति की ही देन
जीवनदाता

(३)
प्रिया के संग
उमंग नवरंग
इन्द्र्धनुष

(४)
नट का स्वांग
नकाब ही जीवन
यही पहचान

(५)
चाँदनी रात
पूनम का चाँद है
प्रिया की याद

(६)
नक्षत्र चक्र
मनोविचार वक्र
भाग्य की फिक्र

(७)
संयम गुण
चरित्र बलवान
यही संपत्ति

(८)
व्यावहारिक
मनुष्य की बुद्धि है
दिल आदर्श

(९)
कवि कल्पना
सूरज की किरण
रची कृतियाँ


(१०)
नारी अबला
सोच से उबला है
गृहलक्ष्मी

९ मई २०११

                          इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter