अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

ivanaaod itvaarI

 

f@kD, kbaIr 

vao jaao f@kD, kbaIr haoto hOM
mana ko baohd AmaIr haoto hOM.

samp`dayaaoM maoM baMQa nahIM pato
ijanako raOSana ja,maIr haoto hOM.

vao xamaaSaIla nama` haoto hOM
jaao hk,Ikt maoM vaIr haoto hOM.

jaao calao hOM lakIr sao hT kr
laaoga vao baonaja,Ir haoto hOM.

taoD, doto hOM Qana ka bala ka gau$r
p`aya vao jaao fkIr haoto hOM.     

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter