अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

rivakumaar fnaIYa

 

BaUK AaOr raoTI

[sa ipstaola kao
kfna phnaakr
jalato Alaava maO Dalakr
Aba calaMUgaa

Zabao sao
pnaIr kI kao[- sabjaI
dalaa[-
AaOr Zor saarI raoiTyaa laokr
khIM $kMUgaa

@yaaoM maara , , ,
ek Apiricat [Msaana kao
isaf- caMd $pyaao kI Kaitr
nahIM saaocaMUgaa

iktnaI ja$rI hO
ek BaUKo [Msaana ko ilayao raoTI
jaba BaUK AaOr raoTI maO hao
ivalaaomaanaupat
iksaI kao nahIM bata}Mgaa
       

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter