अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

ivajaya p`Baakr kaMbalao   

 

Claavaa

Aap Akolao hOM
AaOr BaID, jauTanaI hOM
danao foMk dao
mauiga-yaaoM kI BaID,
Aapko drvaajao pr haijar haogaI.
maalaUma nahIM duinayaa ka dstur
danaoM foMknaa klaa hO
yaa danao cauganaa klaa hO.
yah mat saaocaaoM danao iksako hOM
cauganaovaalao kaOna hOM
yaa AaMgana iksaka hOł
[Sthar kI duinayaa maoM
baajaar lagaa hO ibaknaovaalaaoM ka
iktnaI mauiga-yaaM
kaOnasao AaMgana maoM iksako danao cauga rho hOM.
vaOsao danao AaOr maugaI- kI
]mar bahut CaoTI hO
Claavaa ek klaa hO AaOr
Cla krnaovaalaaoM kI ]mar bahut laMbaI hOM.  

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter