अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

iSavaanaI laZ\Za




maorI yaad BaI AatI haogaI kBaI

maorI yaad BaI AatI haogaI kBaI
idlakI ek QaDkna maorI BaI haogaI khIM

iCp iCpkr Aa^KoM BaI trsaI haogaI maoro ilae
hlkI h^saI AatI tao haogaI rat AMQaoro maoM kBaI

sataraoM sao maora hala BaI pUCa haogaa kBaI
caa^d kao doK maora naama gauna gaunaayaa tao haogaa kBaI

AQaUrI baatoM maorI sapnaaoM maOM pUrI doKI haoMgaI kBaI
tnha idla nao maUJao BaI pukara haogaa kBaI

ibanaa baat maoro ilae plkoM ClakI tao haogaIM kBaI
maorI yaad BaI AatI haogaI kBaI

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter