अंजुमनउपहार कविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम
गौरवग्रंथ दोहेरचनाएँ भेजेंनई हवा पाठकनामा पुराने अंकसंकलन
हाइकु हास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतरसमस्यापूर्ति

 


डॉ सोनाली नरगुंदे

व्याख्याता, पत्रकारिता एवं जनसंचार के क्षेत्र में देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, इंदौर से शिक्षाप्राप्त

 

तुम्हारा प्रेम

सभी हर्फ मेरी
किताबों के धुँधले
हो चुके है,
उनमें अब सिर्फ़
तुम्हारी यादों के
फूल महकते हैं।

सब कुछ छूकर भी
कुछ है अनछुआ,
वहीं अनछुआ, अनकहा
है तुम्हारा प्यार मेरे लिए।

कही अनकही बातों
में जो भी रहेगा
शेष वहीं होगा
अंतहीन प्रेम का विशेष।

एक ही मेज़ होगी
एक ही कुर्सी
अलग-अलग नहीं होगी
सोच हमारी
हम साथ में प्यार बाँटेंगे।

मेरे दिल के समंदर में
उतरने के बाद भी
वह डूबता नहीं
क्योंकि वह तैरना जानता है
और मैं नहीं।

दोपहरी की उमस
बंद पंखे को देखती
चार आँखें,
एक गलीचा
खुबसूरत बेल-बूटों
की कहानी में
दो दिमाग़
महसूस करते हैं
सिर्फ़ देह गंध
शब्दों को अभाव
भावनाएँ तैर रही हैं
श्वास बनकर

जीवन की मधुरतम स्मृतियों में
सहेजा मन का उल्लास हो
स्वर्णिम अतीत का
विस्तृत आकाश हो
नव जीवन की कल्पना से भरपूर
एक विचार मात्र
मेरे प्रतिछाया हो तुम

चुनकर लाए थे एक फूल
वो लौटाना चाहती थी
किसी ने दिया था शायद तुम्हें
जो भूल से मेरे पास छोड़ गए थे,
इस एक बहाने से
तुम्हारे पास आना चाहता थी।

24 मई 2007

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।