अंजुमनउपहारकाव्य संगमगीतगौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहे पुराने अंक संकलनअभिव्यक्ति कुण्डलियाहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँदिशांतर

?iYak Qar




  maorI AiBalaaYaa  

  caah nahIM ik kiva jagat maoM }Mcaa naama kmaa}M.  
caah nahIM ik SabdaoM sao maOM gaIt nayao banaa}M .
  caah nahIM maorI kivataeM saba ko mana kao BaaeM.  
caah nahIM ik mauJasao yah jaga hYa-ayao lauBaayao.
 
caah nahIM vaMdna AiBanaMdna kI mauJa pr hao vaYaa-.
 
caah nahIM ik BaartvaYa- ko kivayaaoMo saMga naama maora BaI Aayao.
pZ, laonaa basa pMi@tyaa^M kuC yau^M hI ilaK dI jaao maOMnao.  
AaOr bata donaa baccaaoM kao
jaIvana ka rsa 
kivata hO evaM maUla ija&asaa hO.
 
basa yahI maorI AiBalaaYaa hO .

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter