QaUp ko paMva

 

CaMva kI tlaaSa  

AMSaumaana AvasqaI  

 

 

masqala kI 
caaMdI saI camaktI rot maoM 
TTaolato hue
QaUp ko paMva
Kaojato hue
AavaXyakta kI CaMva
Aa phuMcaa hU vahaM
jahaM prCa[-yaaM BaI
pOraoM tlao CuptI hOM
mana macalata hO 
doh tptI hO
AasamaaM ipGalata hO
rot cauBatI hO

GaUma Aayaa hU maOM
iktnaI saByataeM
iktnao nagar AaOr
iktnao jaMgala
yah dRiYT hO ik
ktI nahIM
pOraoM tlao pD,I QartI
pr khIM ibaCtI nahIM

yah ek jaMgala hO
marIicakaAaoM ka
AaOr mauJao yahaM
ek zaMva kI tlaaXa hO
tana dUM ApnaI caadr jahaM
Apnao ihssao ko Aasamaana po
]sa CaMva kI tlaaXa hO  

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 19 16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।