QaUp ko paMva

 

garmaI  

AiSvana gaaMQaI  

 

 

garmaI hao 
saUrja kI yaa daOlat kI
$p kI yaa imaja,aja kI
ptlaI kmar kI 
yaa
takt sao Baro baahuAaoM kI
naama kI 
yaa
vaah vaah kI  , , , , 

QaUp kao caaihyao CaMva
daOlat kao dana
$p kaoo na AiBamaana 
takt banao  , , , ,  sahara
AaOr vaah vaah saunakr
na kroM maana

@yaaoM ik khIM na khIM
saBaI kao Kaoja hO
inama-la sa%ya kI , , , ,

yah saba kuC yaad rho
maaOsama ka saaqa rho
ga`IYma ?tu BaI jaaegaI
ifr rhogaI p`tIxaa
Agalao maaOsama kI  
bahar kI.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter