QaUp ko paMva

 

QaUp tp rhI hO 

saI esa Saah

 

 

QaUp tp rhI hO
AaOr jalaa rhI hO Antrmana
laoikna AhM barkrar hO

TukDaoM maoM baTa caohra
AaOr Baavanaae hO $xa
ija,ndga,I Cap CaoDo, jaa rhI hO

Aksaayaa huAa )dya
AaOr QartI hO ]jaaD,
yah saUKa BaI @yaa AjaIba hO

barsaat kI phlaI baUMd
AaOr vah maadk mahk QartI kI
spSa- sao zMDk Aa gayaI hO

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter