QaUp ko paMva

 

khIM po QaUp 

duYyaMt kumaar 

 

 

khIM po QaUp kI caadr ibaCa ko baOz gae¸
khIM po Saama isarhanao lagaa ko baOz gae.

jalao jaao rot maoM tlavao tao hmanao yao doKa¸
bahut sao laaoga vahIM CTpTa ko baOz gae.

KD,o hue qao AlaavaaoM kI AaMca laonao kao¸
saba ApnaI ApnaI hqaolaI jalaa ko baOz gae.

dukanadar tao maolao maoM lauT gae yaaraoM¸
tmaaSabaIna dukanaoM lagaa ko baOz gae.

lahU lauhana naja,raoM ka ijaË Aayaa tao¸
SarIf laaoga ]zo dUr jaa ko baOz gae.

yao saaoca kr ik dr#taoM maoM CaMva haotI hO¸
yahaM babaUla ko saayao maoM Aako baOz gae.

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमन। उपहार। कविकाव्य चर्चा काव्य संगम किशोर कोना गौरव ग्राम गौरवग्रंथ दोहे रचनाएँ भेजें
नई हवा
पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है।