QaUp ko paMva

 

Aaga ka jaMgala 

—igairmaaohna gau$ 

 

dUba ijanda hO
icalaicalaatI QaUp maoM tpnao .

Aaga ka jaMgala 
idKata 
nadI tT pr 
naR%ya
poD, @yaa 
pva-t svayaM hI hOM 
pvana ko BaR%ya
tOrto hOM 
funaigayaaoM kI AaMK maoM
zMUz ko sapnao.
dUba ijanda hO
icalaicalaatI QaUp maoM tpnao.

AnamanaI hOM 
p`at kI plakoM
smarNa kr 
daophr vaalaI CaMva
ek garmaIlaI
]masa ko tala maoM
KD,a hO 
AakNz DUbaa gaaMva
va@t ~OmaaisakI maaOsama
do cauka hO p`osa maoM Cpnao.
dUba ijanda hO
icalaicalaatI QaUp maoM tpnao.

16 jaUna 2005

 

इस कविता पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकविकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्रामगौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलनहाइकुहास्य व्यंग्यक्षणिकाएँ दिशांतरसमस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इस में प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक माह की 1–9 –16 तथा 24 तारीख को परिवर्धित होती है