QaUp ko paMva

 

QaUp kI qakana

maahoSvar itvaarI 

 

 

BarI BarI maUMigayaa hqaolaI pr 
ilaKnao dao ek Saama AaOr.

kaMp kr zhrnao dao 
Baro hue tala 
[Md`QanauYa kao 
bana jaanao dao $maala
saaMsaaoM tk Aanao dao 
AamaaoM ko baaOr.

Jarnao dao yah fOlaI 
QaUp kI qakana
baaMhaoM maoM ksanao dao 
yaad ko isavaana 
kstUrI AamaM~Na 
jaD,o zaOr zaOr.

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

 सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter