धूप के पाँव

 

माथे पर सूरज 

मीनाक्षी धन्वन्तरि 

 

माथे पर सूरज का टीका सजा कर
रेगिस्तानी आँचल से मुँह को छिपा कर
मुस्काई सब दिशाओं को गरमा कर
अपनी ओर झुके आकाश को भरमा कर
तपते रेतीले टीलों के उभार को छिपा कर
तपती धरती सोई न अपनी पीड़ा दिखा कर

तारों से चमकती मांग निशा की
चंदा संग में लाया ।
तपती धरती को अपनी
शीतलता से सहलाया ।
रात की रानी ने धरती का
तन जो महकाया
अँगड़ाई लेकर हरसिंगार का आँचल ढलकाया ।।

मनमोहिनी माया का मनमोहक रूप
जो मैंने देखा ।
मदमस्त पवन सी संग मैं खेलूँ उसके
मेरा भी मन ललचाया ।

पर देखूँ
बिन बुलाए मेहमान सी गर्म हवा ने आकर
पाँव पसारे अपना प्रभुत्व जमा कर।
उगंली थामे धूल महीन जो आई
उसने भी रौब जमाया सारे घर में छाकर।
अपने होने का एहसास खूब जताया
मुस्काई घर के हर कोने कोने जा कर।

तेज़ रेतीली हवाएँ छेड़ाख़ानी करती
दरवाज़ा खटका कर।
धीमे से आती नींद की रानी
छुप जाए घबरा कर।
पाँव पटकती गरमी ठण्डक पा जाती
मुझको बेचैनी में पाकर।

 

इस रचना पर अपने विचार लिखें    दूसरों के विचार पढ़ें 

अंजुमनउपहारकाव्य चर्चाकाव्य संगमकिशोर कोनागौरव ग्राम गौरवग्रंथदोहेरचनाएँ भेजें
नई हवा पाठकनामा पुराने अंक संकलन हाइकु हास्य व्यंग्य क्षणिकाएँ दिशांतर समस्यापूर्ति

© सर्वाधिकार सुरक्षित
अनुभूति व्यक्तिगत अभिरुचि की अव्यवसायिक साहित्यिक पत्रिका है। इसमें प्रकाशित सभी रचनाओं के सर्वाधिकार संबंधित लेखकों अथवा प्रकाशकों के पास सुरक्षित हैं। लेखक अथवा प्रकाशक की लिखित स्वीकृति के बिना इनके किसी भी अंश के पुनर्प्रकाशन की अनुमति नहीं है। यह पत्रिका प्रत्येक सोमवार को परिवर्धित होती है

hit counter